रफ़्ता रफ़्ता ….

रफ़्ता रफ़्ता आसमान ज़मीन पर झुकेगा |

रोशन होगा शमशान भी रफ़्ता रफ़्ता ||

 

शर्माना सीखेगा चाँद भी किसी दिन |

चांदनी मेरे घर भी बरसेगी रफ़्ता रफ़्ता ||

 

सीने की कसक ने यहाँ सोने नही दिया|

सुकून भी उतरेगा फलक से रफ़्ता रफ़्ता ||

 

पतझड़ का मौसम है अरसों से मेरे बगीचे  में |

बहार बेशुमार आएगी गुलशन में रफ़्ता रफ़्ता ||

 

हवा ने अभी ज़रा सा ही तो रुख बदला है |

पूरी की पूरी हवा भी बदलेगी रफ़्ता रफ़्ता ||

 

©Avdhesh

 

क्या आपने मेरी किताब पढ़ी ? अगर नही तो अभी पढ़े , यहाँ क्लिक करें

 

मेरी अन्य हिंदी कविताये पढने के लिए, यहाँ क्लिक करें

Advertisements

20 thoughts on “रफ़्ता रफ़्ता ….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s