जल्लीकट्टू पर विश्लेषण

imagesजल्लीकट्टू क्या है ?

जल्लीकट्टू बैलों का एक खेल है जो तमिलनाडु में पोंगल के अवसर पर खेला जाता है |

आज तक घटित

जल्लीकट्टू तमिलनाडु की सांस्कृति का एक हिस्सा रहा है | इस खेल में एक बैल को कुछ लोगो के समूह द्वारा वश में किया जाता है | पहले प्रत्येक बैल के लिए एक आदमी का नियम था| परन्तु समय के साथ साथ इस खेल में भी बदलाव आते गये | वर्तमान में इस खेल ने अनोखा रूप ले लिया है | एक बैल को सैकड़ो लोग वश में करने की कोशिश करते है |

Animal welfare board of india (AWBI)  के द्वारा सुप्रीम कोर्ट को प्रस्तुत रिपोर्ट में में पशु के साथ निर्दयता का मामला सामने आया है , जैसे – विषयुक्त पदार्थ , पूंछ मोड़ना आदि | साथ ही इस खेल के कारण लोगो को जान की भी हानि हुई है |

2014 में AWBI ने केस लगा दिया | सुप्रीम कोर्ट ने may 2014 तमिलनाडु में इस खेल पर बैन लगा दिया | परन्तु पोंगल के त्यौहार के आने के साथ ही तमिलनाडु के लोग वापस जल्लीकट्टू को शुरू करवाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं | विपक्ष के दबाव व आंतरिक सुरक्षा की पुनः बहाली के लिए तमिलनाडु सरकार ने केंद्र से अध्यादेश जारी करवाने की मांग की है |

मुद्दा

१ . Animal cruelty vs cultural pride (पशु निर्दयता बनाम सांस्कृतिक गौरव )

बैलो का खेल पोंगल त्यौहार में विशेष महत्व रखता है | परन्तु वर्तमान में इसमें पशु निर्दयता के मामले देखने को मिलते है जो कि इस खेल कोPrevention of cruelty to animals act 1960 (PCA ACT) के दायरे में ला के खड़ा कर देता है |

चूँकि यह विषय समवर्ती सूची (7th schedule)में आता है अतः इस पर कानून बनाने के लिए केंद्र की अनुमति आवश्यक है | अतः तमिलनाडु सरकार ने केंद्र से अध्यादेश जारी करने की अनुमति मांगी है | चूँकि यह विषय गृह मंत्रालय के अंतर्गत नहीं आता अतः राष्ट्रपति से अनुमति लेना आवश्यक नहीं है |

यह एक तरह से न्यायिक उल्लंघन की तरह हैं | क्यों कि सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पे पहले से बैन लगा रखा है | परन्तु सुप्रीम कोर्ट ने जनहित को देखते हुए इस अध्यादेश को अनुमति दी है | अब तमिलनाडु सरकार विधानसभा में PCA ACT में संशोधन के लिए विधेयक प्रस्तुत करेगी |

Regards

Avdhesh Dadhich

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: